मध्य प्रदेशस्टेट न्यूज

अल्प प्रवास में उमरिया पहुंचे बागेश्वर पीठाधीश्वर पंडित धीरेन्द्र शास्त्री

ऐसी और जानकारी सबसे पहले पाने के लिए हमसे जुड़े

जिला मुख्यालय उमरिया में 12 जून की सुबह से ही नगर में चर्चा का विषय बना हुआ था की कटनी के विजयराघवगढ़ जाने के लिए बागेश्वर पंडित धीरेन्द्र शास्त्री आज हवाई पट्टी उमरिया में उतरेंगे, जिसे भी यह जानकरी लगी लगी एक बार हवाई पट्टी तक पता लगाने गया भी लेकिन दिन भर की चर्चा शाम ढलते ढलते जैसे ही थमी शाम 5 बजे विशेष विमान से बागेश्वर पीठाधीश्वर पंडित धीरेन्द्र शास्त्री उमरिया पहुंचे और विजयराघवगढ़ विधायक की की अगुवाई में उमरिया नगर के दर्जनों लोगो ने बागेश्वर पीठाधीश्वर पंडित धीरेन्द्र शास्त्री की पुलिस अधीक्षक उमरिया प्रमोद सिन्हा की मौजूदगी में पुलिस की चाक चौबंद व्यवस्था के बीच आगवानी की.

अल्प प्रवास में उमरिया पहुंचे बागेश्वर पीठाधीश्वर पंडित धीरेन्द्र शास्त्री
Source : Social Media

हालाँकि बागेश्वर पीठाधीश्वर पंडित धीरेन्द्र शास्त्री के उमरिया पहुचने की सूचना नगर जैसे ही अन्य लोगो तक पहुची लोगो ने तत्काल हवाई पट्टी का रूख किया लेकिन कुछ ही समय के अन्तराल में बागेश्वर पीठाधीश्वर पंडित धीरेन्द्र शास्त्री हेलीकाफ्टर के माध्यम से विजयराघवगढ़ के लिए रवाना हो गए.

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश के कटनी जिले के विजयराघवगढ़ में राजा पहाड़ के नाम से प्रचलित महानदी और कटनी नदी के संगम पर श्री हरिहर तीर्थ का निर्माण किया जा रहा है उक्त कार्य के भूमिपूजन कार्यक्रम में आज  12 जून को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी पहुचें हैं । उक्त तीर्थ स्थल पर भगवान परशुराम की विश्व की सबसे बड़ी 108 फीट की अष्ट धातु की प्रतिमा स्थापित भी होगी.13 जून को सत्य सनातक सांस्कृतिक सभा के रूप में संतों के बीच परिचर्चा होगी। इसका संचालन अभिनेता आशुतोष राणा करेंगे।

अल्प प्रवास में उमरिया पहुंचे बागेश्वर पीठाधीश्वर पंडित धीरेन्द्र शास्त्री
Source : Social Media

 पांच दिवसीय रामकथा का होगा आयोजन

तीर्थ स्थल से भूमिपूजन कार्यक्रम के बाद एक सप्ताह तक संतों के अलग-अलग कार्यक्रम होंगे। इसमें पांच दिवसीय रामकथा संत रामभद्राचार्य के श्रीमुख से श्रद्धालु सुनेंगे। इस दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी आएंगे। साध्वी ऋतंभरा, आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्रीश्री रविशंकर, महामंडलेश्वर कैलाशनंद गिरी, जितेंन्द्रानंद सरस्वती, राजेश्वरानंद आदि का भी आशीर्वाद मिलेगा। 

तीर्थ स्थल में  भूमिपूजन कार्यक्रम के बाद एक सप्ताह तक संतों के विभिन्न कार्यक्रम होंगे। जिसमें श्रद्धालु संत रामभद्राचार्य के श्रीमुख से पांच दिवसीय रामकथा का श्रवण करेंगे।

ऐसी और जानकारी सबसे पहले पाने के लिए हमसे जुड़े

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button