Big Breaking

Bandhavgarh : जंगली हाथी के अटैक से बाल बाल बचे पर्यटक

बांधवगढ़ में जंगली हाथी ने किया पर्यटकों पर हमले का प्रयास ड्राईवर की सतर्कता से पर्यटकों की बची जान,आगे पढ़िए बांधवगढ़ में क्यों बनाई गई है टीम गौतम

Bandhavgarh : बांधवगढ़ टाईगर रिज़र्व में बीते 3 -4 सालों पूर्व छत्तीसगढ़ के रास्ते उड़ीशा और झारखंड से आये हुए जंगली हाथियों (Wild Elephant)का कुनबा दिन ब दिन बढ़ता जा रहा है, 40 की संख्या में आए हाथियों की संख्या में अब काफी इजाफा हो चुका है। यही नही हाथी अब साइटिंग का हिस्सा भी बन चुके है लेकिन इसके साथ साथ हाथी पर्यटकों की सुरक्षा में चुनौती साबित हो रहे वीडियो बांधवगढ़ टाईगर रिज़र्व (Wild Elephant) में सफारी के दौरान का हैं जब हाथी ने पर्यटकों की जिप्सी को दौड़ा लिया (wild elephant attack in gypsy) हालांकि ड्राइवर की सतर्कता से हाथी जिप्सी में बैठे पर्यटकों को कोई नुकसान नही पहुँचा पाया लेकिन विशालकाय हाथी को तेजी से अपनी ओर आता देखकर एक पल के लिए पर्यटकों की साँसे थम सी गई थी।मात्र 4 सेकंड के इस वीडियो में आप देख सकते है की हाथी कितनी तेजी से जिप्सी पर अटैक करने के लिए दौड़ लगा देता है लेकिन ड्राईवर के क्विक एक्शन से पर्यटक हाथी के हमले से बच जाते हैं.

यह भी पढ़ें : Bandhavgarh Tiger Reserve : बांधवगढ़ के उस काले अध्याय को नही दोहराना चाहता पार्क प्रबंधन उठाया यह बड़ा कदम

देखिए जंगली हाथी के अटैक का वीडियो

टीम गौतम रहती है 24 घण्टे चौकन्ना :

हालांकि उक्त मामले में जब उपवनमंडलाधिकारी सुधीर मिश्रा से बात की गई तो उन्होंने बताया कि जंगली हाथियों के मूवमेंट को लेकर बांधवगढ़ टाईगर रिज़र्व प्रबंधन (Management of Bandhavgarh Tiger Reserve) मुस्तैद है। एक मोबाइल टीम जंगल मे हाथियों की डेली मूवमेंट पर नजर रखती है,और कई व्हाट्सएप ग्रुप भी बनाए गए है  जिनके माध्यम से जंगली हाथियों की हलचल पर नजर रखी जाती है। जंगली हाथियों पर नजर रखने वाली टीम को बांधवगढ़ के उम्रदराज हाथी गौतम के नाम पर टीम गौतम  (Team Gautam) बनाई गई है. यह टीम जंगली हाथियों पर नजर रखने का काम करती हैं. साथ ही उपवनमंडलाधिकारी सुधीर मिश्रा ने यह भी बताया की टीम गौतम में एक बायोलाजिस्ट,डिप्टी रेंजर और श्रमिक इस टीम का हिस्सा है.

यह भी पढ़ें : Bandhavgarh Tiger Reserve :बच्चों को पीठ में बैठाकर सैर कराते नजर आई मादा भालू

ताला कोर जोन में शेष शैया के इलाके में जहा पर्यटक जिस्पियों से उतर कर भगवान बंधवाधीस के दर्शन करते हैं उस क्षेत्र में अगर जंगली हाथियों के होने की जानकारी मिलती हैं तो उस क्षेत्र में पर्यटन को रोक दिया जाता है. टीम गौतम मॉर्निंग सफारी के पहले पार्क में पेट्रोलिंग चालू कर देती हैं ताकि जंगली हाथिओं की उपस्थिति की जानकारी मिल सके.

साइटिंग का हिस्सा बने हाथी

बांधवगढ़ टाईगर रिज़र्व में बाघ दर्शन करने पहुँच रहे पर्यटकों को कोर जोन में जमकर वाइल्ड एलीफैंट साइटिंग भी हो रही है,कभी एक दो हाथी तो कभी जत्थे के जत्थे भर हाथी पर्यटकों को दिख जाते है लेकिन स्थितियां तब पैनिक हो जाती हैं जब जिप्सी ट्रैक पर एकदम हाथी सामने आ जाते हैं. कुल मिलाकर जंगली हाथियों को एक साथ नजदीक से देखना टाईगर देखने से कम रोमांचकारी नही है.

Sanjay Vishwakarma

संजय विश्वकर्मा (Sanjay Vishwakarma) 41 वर्ष के हैं। वर्तमान में देश के जाने माने मीडिया संस्थान में सेवा दे रहे हैं। उनसे servicesinsight@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है। वह वाइल्ड लाइफ,बिजनेस और पॉलिटिकल में लम्बे दशकों का अनुभव रखते हैं। वह उमरिया, मध्यप्रदेश के रहने वाले हैं। उन्होंने Dr. C.V. Raman University जर्नलिज्म और मास कम्यूनिकेशन में BJMC की डिग्री ली है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button