राजनीति

रपट लिख कर मुंशी ने किसान से पूछा ‘बाबा हस्ताक्षर करोगे कि अंगूठा लगाओगे?’ किसान ने हस्ताक्षर में नाम लिखा ‘चौधरी चरण सिंह’ ठोक दी सील ‘प्रधानमंत्री, भारत सरकार’

35 रुपये रिश्वत लेकर रपट लिखना तय हुआ। रपट लिख कर मुंशी ने किसान से पूछा ‘बाबा हस्ताक्षर करोगे कि अंगूठा लगाओगे?’ किसान ने हस्ताक्षर में नाम लिखा ‘चौधरी चरण सिंह’ और कुर्ते की जेब से मुहर निकाल कर कागज पर ठोंक दी, जिस पर लिखा था ‘प्रधानमंत्री, भारत सरकार’। परिणाम, थाना सस्पेंड।

देश के पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह को पूरा देश शत शत नमन कर रहा है आज उनकी पुण्यतिथि है, उनसे जुड़ा एक रोचक किस्सा पढ़िए 1979 विकासखण्ड अंतर्गत । शाम 6 बजे कुर्ता-धोती पहने एक किसान इटावा के उसराहार थाने पहुंचा और अपने बैल चोरी होने की रिपोर्ट दर्ज कराने को कहा. सिपाही ने इंतजार करने को कहा। कुछ देर इंतजार करने के बाद किसान ने फिर रिपोर्ट लिखाने की गुहार लगाई, लेकिन सिपाही नहीं माने। थोड़ी देर बाद सिपाही आया और बोला, ‘चलो छोटे दरोगा जी को बुलाते हैं।’ छोटे दरोगा ने पुलिसवाले की शैली में 4-6 आपत्तिजनक सवाल पूछे और बिना रिपोर्ट लिखे ही किसान को फटकार लगा दी.

जब पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह किसान के भेष में उसराहार थाने से जाने लगे तो बाद में एक सिपाही आया और बोला, ‘बाबा, थोड़ा पानी पिला दो, रिपोर्ट लिख दी जाएगी।’ तब किसान खुश हो गया। रिपोर्ट लिख दी गई, लेकिन खर्च के ख्याल से उसका माथा पानी में तर हो गया। किसान ने मिन्नतें करते हुए कहा कि वह एक गरीब किसान है, लेकिन काफी मनाने के बाद जब कोई बात नहीं बनी तो किसान थोड़ी रकम देने को तैयार हो गया। 35 रुपए रिश्वत लेकर रिपोर्ट लिखाने का निर्णय लिया। रिपोर्ट लिखने के बाद किसान के वेश में मुंशी ने प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह से पूछा, ‘बाबा आप हस्ताक्षर करेंगे या अंगूठा लगाएंगे?

किसान के वेश में प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह ने हस्ताक्षर करने को कहा तो लेखक राजी हो गया, जिस पर प्राथमिकी का प्रारूप लिखा गया. किसान से प्रधानमंत्री बने चौधरी चरण सिंह ने कलम से अंगूठा उठाया तो लेखक सोच में पड़ गया। अगर वह हस्ताक्षर करने जा रहा है तो वह अंगूठे की स्याही का पैड क्यों उठा रहा है? किसान से प्रधान मंत्री बने चौधरी चरण सिंह ने अपने हस्ताक्षर में अपना नाम ‘चौधरी चरण सिंह’ लिखा और अपने गंदे कुर्ते की जेब से एक मुहर निकालकर एक कागज पर रख दी जिस पर लिखा था ‘प्रधान मंत्री, सरकार। भरत।’ यह देख पूरे थाने में खलबली मच गई। दरअसल तत्कालीन प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह ही थाने में औचक निरीक्षण के लिए आए थे. जिसके बाद उसरहर के पूरे थाने को सस्पेंड कर दिया गया.

जानें चौधरी साहब के राजनीतिक सफर के बारे में

3 अप्रैल 1967 को चौधरी साहब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। उन्होंने 17 अप्रैल 1968 को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। लेकिन मध्यावधि चुनाव में उन्हें अच्छी सफलता मिली और वे 17 फरवरी 1970 को दोबारा मुख्यमंत्री बने। बाद में जब वे केंद्र सरकार में गृह मंत्री बने तो उन्होंने मंडल और अल्पसंख्यक आयोग की स्थापना की। वित्त मंत्री और उप प्रधान मंत्री के रूप में 1979 में राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक की स्थापना की। 28 जुलाई 1979 को चौधरी चरण सिंह समाजवादी दलों और कांग्रेस (यू) के समर्थन से प्रधानमंत्री बने।

गरीब परिवार में 23 दिसंबर 1902 में हुआ था जन्म

चौधरी साहब का जन्म 23 दिसंबर 1902 को मेरठ जिले में बाबूगढ़ छावनी के पास नूरपुर गांव में एक गरीब परिवार में हुआ था। चौधरी चरण सिंह के पिता चौधरी मीर सिंह थे, जिन्हें चरण सिंह से नैतिक मूल्य विरासत में मिले थे। वे 1929 में स्वतंत्रता संग्राम में शामिल हुए और 1940 में सत्याग्रह आंदोलन के दौरान जेल गए। 1952 में चौधरी साहब कांग्रेस सरकार में राजस्व मंत्री बने और किसानों के हित में जमींदारी उन्मूलन विधेयक पारित किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: NWSERVICES Content is protected !!

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker