मध्य प्रदेशस्टेट न्यूज

महाकाल मंदिर में 3 से 10 अप्रैल तक गर्भगृह श्रद्धालुओं के लिए बंद बताया गया ये बड़ा कारण

महाकालेश्वर मन्दिर में दर्शन के लिये आने वाले श्रद्धालुओं की सुगम दर्शन व्यवस्था को लेकर कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने आज अधिकारियों की बैठक ली एवं दिशा-निर्देश दिये। 3 अप्रैल से 10 अप्रैल के बीच दर्शनार्थियों की संख्या को देखते हुए गर्भगृह में दर्शन बन्द रहेंगे। आगामी 4 अप्रैल से 10 अप्रैल के मध्य सीहोर वाले पं.प्रदीप मिश्रा की शिवपुराण कथा मुरलीपुरा के ठीक पहले खाली स्थान पर आयोजित हो रही है। बैठक में एडीएम अनुकूल जैन, एएसपी अभिषेक आनन्द, महाकालेश्वर मन्दिर प्रशासक संदीप सोनी, पुलिस उप अधीक्षक एसपीएस राठौर, विशाल राजौरिया एवं अन्य अधिकारी मौजूद थे। बैठक में कलेक्टर ने निम्नानुसार व्यवस्थाएं करने के निर्देश दिये·

Photo : Social Media

यह भी पढ़ें : पीएम मोदी ने प्रदेश की पहली वन्देभारत एक्सप्रेस को दिखाई हरी झंडी जाने टाइम टेबल,रूट,स्पीड और कितना होगा किराया

दर्शन व्यवस्था जिस तरह से महाशिवरात्रि के दौरान की गई थी, उसी के अनुरूप की जाये। पार्किंग के लिये भील धर्मशाला एवं कर्कराज पर पूर्वानुसार व्यवस्थाएं की जायेंगी। महाकाल लोक से दर्शनार्थियों को बेरिकेटिंग में लेकर मानसरोवर तक लाया जाये। बेरिकेटिंग में आठ स्थानों पर पीने के पानी की व्यवस्था सुनिश्चित की जाये। जूता स्टेण्ड, प्रकाश, पार्किंग, पेयजल की व्यवस्था एवं सीसीटीवी कैमरे लगाये जाने की व्यवस्था भी महाशिवरात्रि की तरह की जाये।

  • नृसिंह घाट पर भी सीसीटीवी कैमरा लगाया जाये। अनाउंसमेंट के लिये व्यवस्थित साउण्ड सिस्टम की व्यवस्था की जाये। सीसीटीवी कैमरा द्वारा कंट्रोल रूम से श्रद्धालुओं के मूवमेंट की लगातार मॉनीटरिंग की जाये।
  • दर्शन की लाइन निरन्तर चलती रहना चाहिये, कहीं रूकना नहीं चाहिये।
  • दर्शनार्थियों की अधिक संख्या होने पर भूखी माता एवं शंकराचार्य चौराहे पर होल्डअप तैयार किया जाये।
  • महाकाल लोक एवं महाकालेश्वर मन्दिर परिसर में स्वास्थ्य विभाग की पांच टीम लगाने के निर्देश दिये हैं। पांच बेड का अस्थाई अस्पताल तैयार करने के निर्देश दिये गये हैं। यहां पर आवश्यक दवाईयों के साथ प्रचुर मात्रा में ओआरएस रखने के लिये कहा गया है।
  • पर्याप्त मात्रा में साइनेजेस लगाये जायें। पीडब्ल्यूडी द्वारा 2 अप्रैल तक बेरिकेटिंग का शत-प्रतिशत कार्य पूर्ण कर लिया जाये।
  • पार्किंग के लिये चिन्हित किये गये स्थानों पर नगर निगम द्वारा पेयजल, बिजली, साफ-सफाई तथा अस्थाई शौचालयों की व्यवस्था करने के निर्देश दिये गये हैं। अस्थाई शौचालयों की निरन्तर साफ-सफाई करने के लिये कहा गया है।
  • नो-व्हीकल झोन में सख्ती से नियम का पालन करवाया जाये। अनाधिकृत रूप से वाहन पार्किंग या वाहन प्रवेश पर उक्त वाहनों को क्रेन से उठाने के लिये 10 क्रेन की तैनाती करने के निर्देश दिये हैं।
  • होमगार्ड को विभिन्न स्नान घाटों पर एसडीआरएफ की टीम तैनात करने, बोट, तैराकों को मय साजो-सामान के मौजूद रहने के निर्देश दिये गये हैं।
  • फूड सेफ्टी अधिकारी भोजनशाला में रहकर अपनी देखरेख में परीक्षण कर भोजन तैयार करवायें।
  • महाकालेश्वर मन्दिर में आठ लाइन में दर्शन करवाये जायें।

3 अप्रैल से 10 अप्रैल के बीच दर्शनार्थियों की संख्या को देखते हुए गर्भगृह में दर्शन बन्द रहेंगे । बैठक दौरान कलेक्टर ने निर्देश दिए कि जिस तरह से महाशिवरात्रि के दौरान दर्शन व्यवस्था की गई थी उसी के अनुरूप व्यवस्था की जाये । महाकाल लोक से दर्शनार्थियों को बेरिकेटिंग में लेकर मानसरोवर तक लाया जाये । बेरिकेटिंग में आठ स्थानों पर पीने के पानी की व्यवस्था सुनिश्चित की जाये । जूता स्टेण्ड, प्रकाश, पार्किंग, पेयजल की व्यवस्था एवं सीसीटीवी कैमरे लगाये जाने की व्यवस्था भी महाशिवरात्रि की तरह की जाये ।

यह भी पढ़ें : एमपी के उमरिया में फूटा धर्मपरिवर्तन का भांडा, पीड़ितों की जुबानी सुन काप जाएगी आपकी रूह

Artical by आदित्य

Follow me on facebook 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button