लाइफ स्टाइल

Akshaya Tritiya 2024: अक्षय तृतीया पर क्यों कराई जाती है गुड्डे- गुड़ियों शादी जानिए धार्मिक और तथ्यात्मक कारण

हिंदू पंचांग के अनुसार वर्ष 2024 की अक्षय तृतीया 10 में को मनाई जानी है.वैशाख माह की शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाए जाने वाली अक्षय तृतीया हिंदू धर्म का बहुत ही धार्मिक महत्व वाला त्योहार है। अक्षय तृतीया के दिनघर के उपयोगी सामान के साथ-साथ सोने चांदी के जेवरात खरीदने का चलन काफी पुराना है.इसके साथ ही अक्षय तृतीया के दिन जमकर शादी समारोह के कार्यक्रम होते हैं अनेक- अनेक तरह के शुभ काम अक्षय तृतीया के दिन किए जाते हैं। यह एक ऐसा दिन होता है जब लोग शुभ मुहूर्त दिखाने के लिए किसी भी ज्योतिषाचार्य के पास नहीं जाते हैं क्योंकि अक्षय तृतीया का दिन हर कार्य के लिए शुभ माना जाता है। अक्षय का मतलब होता है कभी ना खत्म होने वाला सी मान्यता है कि इस दिन जो भी सोने के की ज्वेलरी या अन्य जो भी महत्वपूर्ण सामान खरीदे जाते हैं वह काफी शुभ होते हैं। साथ ही यह भी माना जाता है कि इस दिन जो विवाह होते हैं उनके जीवन में सुख शांति और समृद्धि जीवन भर बनी रहती है।

Akshaya Tritiya 2024: अक्षय तृतीया पर क्यों कराई जाती है गुड्डे- गुड़ियों शादी जानिए धार्मिक और तथ्यात्मक कारण
Akshaya Tritiya 2024 Why are dolls married on Akshaya Tritiya Know the religious and factual reasons

गुड्डे-गुड़ियों की विधि विधानसे रचाई जाती है शादी | Akshaya Tritiya 2024

मध्य प्रदेशके विंध्य क्षेत्र के साथ-साथ छत्तीसगढ़ में भी छोटी-छोटी बालिकाएं अक्षय तृतीया के दिन गुड्डे गुड़ियों की शादी रचाने का काम करती हैं.हालांकि इसके पीछे का कारण यह बताया जाता है कि जब बचपन में हीआप इस वैवाहिक परंपरा को आत्मसात कर लेती हैं और जब आप बड़े होते हैं तब आपकी यादों में यह गुड्डे गुड़ियों की शादी बनी हुई रहती है। वैवाहिक संस्कार के प्रति झुकाव के लिए बचपन में गुड्डे गुड़ियों का विवाह बच्चियों से कराई जाती है यह एक ऐसा दिन होता है जब बिना पोथी पत्रा देखें शादियां कराई जाती हैं।

Akshaya Tritiya 2024: अक्षय तृतीया पर क्यों कराई जाती है गुड्डे- गुड़ियों शादी जानिए धार्मिक और तथ्यात्मक कारण
Akshaya Tritiya 2024 Why are dolls married on Akshaya Tritiya Know the religious and factual reasons

अक्षय तृतीया पर विवाह करना होता है शुभ |Akshaya Tritiya 2024

शादी विवाह के महा मुहूर्त के नाम पर अक्षय तृतीया का दिन जाना जाता है.ऐसा कहा जाता है कि जिस लड़के लड़की की कुंडली के हिसाब से विवाह मुहूर्त नहीं मिल पाता है। इन सभी का अक्षय तृतीया के दिन विवाह करना बहुत ही शुभ माना जाता है। अक्षय तृतीया के दिन विवाह संस्कार के साथ-साथ मुंडन संस्कार, इंगेजमेंट, नए घर में प्रवेश और भूमि पूजन जैसे महत्वपूर्ण संस्कार के साथ-साथ सोनासोने की ज्वेलरी खरीदने की परंपरा भी है।

अक्षय तृतीया के शुभ मुहूर्त में किया जाता है दान भी | Akshaya Tritiya 2024

दान के लिए भी अक्षय तृतीया का दिन बहुत ही शुभ और महत्वपूर्ण माना जाता है.वैशाख माह में वैसे भी बहुत ही प्रचंड गर्मी होती है। ऐसे समय में पशु पक्षियों सहित इंसान भी गर्मी से बेहाल हो जाते हैं अक्षय तृतीया के दिन आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को कपड़े जूते चप्पल का दान करना उत्तम माना जाता है साथ ही पशु पक्षियों के लिए भी जल की व्यवस्था करना और उनके खाने की व्यवस्था करना बहुत ही पुण्य का काम अक्षय तृतीया के दिन माना जाता है।

अक्षय तृतीया के मौके पर रीवा, सीधी, सतना, शहडोल, उमरिया, सहित बिलासपुर रायपुर जैसे बड़े शहरों में गुड्डे और गुड़ियों की पुतलियां बहुत ही आकर्षक और बहुत ही शानदार तरीके से बनाई जाती हैं आने वाली नई पीढ़ी को शादी समारोह के शादी संस्कार के महत्व को समझाया जा सके और यह परंपरा आगे बनी रहे इसीलिए छोटी-छोटी बच्चियों से गुड्डे गुड़ियों की शादी करने की परंपरा इस क्षेत्र में बहुत ही पुरानी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker