लाइफ स्टाइल

देखिए कैसा था दुनिया का पहला वायरलेस टेलीविजन रिमोट कंट्रोल

See how the world's first wireless television remote control was

टीवी रिमोट ने आपका जीवन आसान बना दिया हैं टीवी तक बिना गए मनचाहे चैनल को ट्यून कर आप पसंदीदा कार्यक्रम देखते हैं और कभी कभी तो रिमोट को अपने पास रखने की बात पर बचपन आपकी घर में किसी न किसी से खिटपिट भी हुई होगी,लेकिन क्या आपको पता है आपके हाथ में पड़ा यह रिमोट कब ईजाद हुआ और जब यह ईजाद हुआ था तो क्या ऐसा ही इतने सारे फीचर्स को से लैस था. और जब रिमोट ईजाद किया गया था तबसे ही वायरलेस था या नही  आज जब जानेगें की टीवी रिमोर्ट का क्या इतिहास है.

तो आपको बता दें की टेलीविजन के ईतिहास में रिमोट टीवी के साथ पहली बार १९५६  के जून माह में पहली बार अमेरिकी घरों में प्रवेश किया था, टीवी से पहले पहली बार रिमोर्ट कण्ट्रोल का उपयोग जर्मनी ने पहली बार प्रथम विश्व यूद्ध में मोटरबोट को कण्ट्रोल करने के लिए किया गया था,लेकिन सेना के द्वारा उपयोग के बाद पहली बार रिमोर्ट का उपयोग टीवी से पहले स्व चलित दरवाजों को खोलने के लिए किया गया था.

दुनिया का पहला टीवी रिमोट नही था वायरलेस

आज आपके हाथ ने रखा रिमोट दूर से ही टीवी को कण्ट्रोल करने में सहयोग करता है लेकिन क्या आपको पता है की दुनिया का पहला रिमोट कण्ट्रोल वायरलेस नही था इसे भारी भरकम वायर द्वारा टीवी से जोड़ा जाता था,लेकिन तत्कालीन ग्राहकों को यह भारीभरकम रिमोट जरा भी पसंद नही आया इस रिमोट को जेनिथ रेडियो कारपोरेशन ने 1950 के दसक में ईजाद किया था और इसका नाम लेजी बोन रखा गया था.

फ्लैश-मैटिक बना दुनिया का पहला वायरलेस रिमोट

भारी भरकम वायर वाले लेजी बोन रिमोट के बाद एक अन्य वैज्ञानिक जेनिथ इंजीनियर यूजीन पोली ने 1955 में पहला “फ्लैश-मैटिक” वायरलेस टीवी रिमोट बनाया था, यह रिमोट टीवी स्क्रीन के प्रत्येक कोने में लगे चार फोटोकल्स के माध्यम से ऑपरेट होता था, हालाँकि, फ्लैश-मैटिक को धूप के दिनों में अच्छी तरह से काम करने में समस्या होती थी, कभी-कभी चैनलों को बेतरतीब ढंग से स्विच करने पर जब सूरज की रोशनी फोटोकल्स से टकराती थी। हलाकि इसके बाद 1956 में ने अल्ट्रासोनिक्स पर आधारित स्पेस कमांड डिजाइन को ईजाद किया गया. 1960 के दशक की शुरुआत में, ट्रांजिस्टर के आविष्कार के बाद, रिमोट कंट्रोल के आकार और लागत में कमी आई, ट्रांजिस्टर के आविष्कार के बाद, सभी इलेक्ट्रॉनिक्स की तरह रिमोट कंट्रोल की कीमत और आकार में कमी आई।1980 के दशक की शुरुआत में इन्फ्रारेड उपकरणों ने अल्ट्रासोनिक रिमोट कंट्रोल को बदल दिया।

उसके बाद चरणबद कई बार बार रिमोट अपडेट होते रहे और आज की सबसे उन्नत तकनीकी के साथ आपके हाथ में रिमोट मौजूद है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button