मध्य प्रदेशस्टेट न्यूज

सिंगरौली के विकास में बाधक बन रहे हैं अरविंद केजरीवाल : विधायक सिंगरौली

मध्यप्रदेश की एकमात्र आम आदमी पार्टी सिंगरौली मेयर अब सियाशत का शिकार होती दिख रही हैं,हाल ही में बाजार बैठकी टैक्स माफी को लेकर सुर्खियों में आई मेयर रानी अग्रवाल और अध्यक्ष व विधायक के बीच जुबानी जंग जारी शुरू हो गई है, आरोप
प्रत्यारोप के बीच आज से शुरू होनी है परिषद की बैठक, हंगामे दार होने के आसार

यह भी पड़े : MP News: बाजार बैठकी की नीलामी रद्द नगर निगम की 12 बाजारों में लगी बाजार बैठकी पर रोक

मेयर बन रही विकास कार्यों में बाधा

दरअसल सिंगरौली जिले में नगर सरकार बनने के बाद से आज तक परिषद की बैठक न होने का सारा ठीकरा निगम अध्यक्ष देवेश पांडेय ने मेयर पर फोड दिया है। उनका सीधा आरोप है कि मेयर नगर विकास के कार्यों में बाधा बन रही है। जिससे शहर का विकास सड़क , नाली, पानी, बिजली जैसे मुख्य जरूरी काम नहीं हो पा रहे हैं। परिषद की बैठक न होने से परिषद को बजट एलॉट नहीं हो पा रहा है। बाकी अध्यक्ष ने यह भी कहा कि आज से बैठक शुरू होनी है लेकिन मेयर और उनकी पार्टी के लोग इस बैठक का बहिष्कार करेंगे।

See Vedio :

देवेश पांडे निगम अध्यक्ष सिंगरौली

इधर सिंगरौली भाजपा विधायक राम लल्लू वैश्य ने मेयर रानी अग्रवाल और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कहा कि नगरीय चुनाव के बीच दिल्ली मुख्यमंत्री एवं स्थानीय मेयर ने लोगों को लॉलीपॉप भरी घोषणाएं सुना कर जीत तो हासिल कर ली लेकिन उसे पूरा नहीं कर पा रही तो सारा ठीकरा भाजपा के ऊपर फोड़ रही है लोगो को गुम राह कर रही। यदि बाजार बैठकी माफ ही करानी है तो बाजार बैठकर का टैक्स वो स्वयं अपने से खुद नगर निगम में जमा कर दे तो बाजार बैठकर माफ हो जायेगी।

See Vedio :

लल्लू राम वैश्य विधायक सिंगरौली प्रदेश सरकार दे रही दबाव

इधर अध्यक्ष और विधायक के बातों पर पलटवार करते हुए मेयर रानी अग्रवाल ने कहा कि बाजार बैठकी टेक्स माफी एक सार्वजनिक एवं लोगों के हित का मुद्दा है। इसे परिषद की बैठक में शामिल करने के लिए एमआईसी के सदस्यों से चर्चा के उपरांत भेजा गया था। लेकिन निगम आयुक्त पवन सिंह स्थानीय भाजपा सरकार एवं प्रदेश भाजपा सरकार के दबाव में आकर एजेंडे को प्रस्ताव में शामिल नहीं किया है। जो न्याय संगत नहीं है। साथी उन्होंने विधायक के बातों पर पलटवार करते हुए कहा कि जो भी प्रदेश में नेता मंत्री और विधायक घोषणा कर चुनाव लड़ते हैं तो क्या वह अपनी घोषणा पूरी करने के लिए अपने जेब से पैसे खर्च करते हैं। यदि वह अपनी घोषणा पूरी करने के लिए खुद पैसे जेब से दे तो हम भी अपनी घोषणा को पूरी करने के लिए पैसे देने और टैक्स भरने के लिए तैयार हूं।

See Vedio :  

रानी अग्रवाल मेयर नगर निगम

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button