मध्य प्रदेशस्टेट न्यूज

पीसीसी चीफ कमलनाथ पर की गई टिप्पणी को लेकर मुख्यमंत्री के लिए किया सद्बुद्धि यज्ञ

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के प्रति मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा किये गए अपशब्दों के प्रयोग के विरुद्ध  विजयराघवगढ़ विधानसभा यूथ कांग्रेस के आवाहन पर कांग्रेस  नेता इंजीनियर नीरज सिंह बघेल के नेतृत्व में बरही बस स्टैंड समीप सद्बुद्धि यज्ञ का आयोजन किया गया सर्व प्रथम कांग्रसियों द्वारा उपस्थित लोगो को वर्तमान सरकार कि विफलता गिनाई गई मंहगाई से लेकर विगत दिनों लांच हुई योजना लाड़ली बहना के बारे में सरकार पर जमकर निशाना साधा गया कहा कि सरकार लाड़लियों के लिए एक हजार रुपये देने कि योजना तो चला दी है लेकिन बहनाओ को भारी समस्या का सामना करना पड़ रहा है उन्हें कई घण्टे बैंक आधार सेंटरों में लाइने लगाना पड़ रहा है इसके अलावा पूर्व में रही कमलनाथ सरकार के काम के बारे मे जनता को अवगत कराया गया कहा कि हमारी सरकार जब थी जनता को राहत थी भाजपा सरकार में वृद्ध पेंशन 300 रुपये मिलता था लेकिन हमारी सरकार द्वारा 600 रुपये किया गया जो आज भी मिल रहा है इसके अलावा 100 यूनिट का 100 रूपये ही बिल आता था अब देखा जाता है कि हजार से कम किसी का बिल नही आता है जिसको आम जनता परेशान है

बता दें कि कांग्रेसियो ने मध्यप्रदेश भाजपा सरकार पर विभिन्न मुद्दों पर निशाना साधा है इसके ततपश्चात सद्बुद्धि यज्ञ किया गया जिसमें मुख्यमंत्री कि छाया चित्र को हवन कुंड में डालते हुए जमकर नारेबाजी की गई हला कि इस मौके पर बरही पुलिस भी तैनात रही जिसके सामने ही यह सद्बुद्धि यज्ञ का कार्यक्रम हुआ  और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के छाया चित्र का आव्हान किया जिसको पुलिस सिर्फ दर्शक कि तरह देखती रही

वही विजयराघवगढ़ विधानसभा भाजपा नेताओं ने चुटकी लेते हुए  कहा कि कांग्रेसियो को अपने लिए ही सद्बुद्धि यज्ञ करने कि ज्यादा जरूरत है वो इस लिए कि वो ही वो लड़े जा रहे हैं आज के दौर में कांग्रेस कि भाजपा से कम  बल्की कांग्रेस कांग्रेस कि लड़ाई ज्यादा है जो पार्टी के होकर अलग अलग ग्रुफ में विभाजन हैं  और एक नही हैं.

 इस दौरान कांग्रेस नेता नीरज सिंह बघेल पूर्व ब्लॉक अध्यक्ष संजय बिलौहा शुभम शर्मा यूथ कांग्रेस अध्यक्ष कांग्रेस विधानसभा प्रवक्ता ब्रजराज सिंह परमार हरछठ प्रसाद स्वर्णकार प्रेमलाल केवट जिला पंचायत सदस्य कटनी समेत सैकड़ों कांग्रेसियो कि उपस्थिति रही.

Article By Neeraj Tiwari

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button