क्राइममध्य प्रदेशस्टेट न्यूज

फ़िल्म पुष्पा की तर्ज पर तस्करों ने वन कर्मियों पर बरसाए पत्थर जानिए कहा का है मामला

तस्करों का हमला सागौन तस्करों ने वन कर्मियों पर पहाड़ी से बरसाए पत्थर, गिराए लट्ठे डिप्टी रेंजर का कंधा फैक्चर नागपुर में किया भर्ती

आप सभी ने फिल्म पुष्पा को देखा और समझा भी होगा की फिल्म पुष्पा में किस तरह से चंदन माफिया बेखौफ होकर चंदन की तस्करी करते है। और जब वन विभाग की टीम उन चंदन माफिया को पकड़ने पहुंचती है तो उन पर माफियाओं के द्वारा पत्थरबाजी कर दी जाती है। ऐसा ही कुछ मामला दक्षिण वन मंडल भैसदेही के सावलमेंढा रेंज में सामने आया जहा साबुन तस्करों के हौसले इतने बुलंद है कि वह उन्हें पकड़ने वाले वन अमले पर जानलेवा हमला करने लगे हैं। दक्षिण वन मंडल के महाराष्ट्र से सटे ढोमकुंड जंगल में रात में गति कर रहे वन अमले के डिप्टी रेंजर दो वन रक्षकों और एक चौकीदार पर 1 माफियाओं ने हमला कर दिया वही सरकारी वाहन को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। 15 से 20 तस्करों ने वन अमले पर पहाड़ी से साबुन के लट्ठे गिराए जिसमें एक डिप्टी रेंजर का कंधा फैक्चर हो गया वही हाल ही में ज्वाइन हुए 2 बीट गार्ड और वनरक्षक बमुश्किल खुद को बचा पाए।

बैतूल जिले के ढोमकुंड में डिप्टी रेंजर साकली यदुनंलन यादव,वनरक्षक प्रवीण गुप्ता बीड गार्ड शुमभ राठौर एक चौकीदार के साथ गस्त कर  रहे थे। उसी समय उन्हें कुछ लोग साबुन के लट्ठे कंधे पर रखकर पहाड़ी पर चढ़ते हुए दिखे। जैसे ही उन्होंने वन अमले को आता देखा पहाड़ी पर से नीचे साबुन के लट्ठे और पैर पत्थर नीचे की ओर गिराना शुरू कर दिया।

माफियाओं का आतंक इतना था कि उन्होंने सरकारी जिप्सी भी तस्करों ने क्षतिग्रस्त कर दी।इस दौरान एक बड़ा पत्थर डिप्टी रेंजर यदुनंदन यादव के कंधे पर लगा और वह जख्मी हो गए। पत्थरों से बचने बीड घाट को पेड़ों के पीछे छिपना पड़ा। इसके बाद वन तस्कर भाग गए। बीट गार्ड प्रवीण गुप्ता और शुभम राठौर घने जंगलों में घायल डिप्टी रेंजर को दोनों अपने कंधे पर लेकर जिप्सी तक दौड़े और तेज रफ्तार जितनी चलाते हुए महाराष्ट्र के परसवाड़ा के अस्पताल में उनका प्रारंभिक उपचार शुरू करवाया हालत गंभीर होने पर उन्हें नागपुर भी रेफर कर दिया गया।

घटना के बाद रात में ही दक्षिण वन मंडल के लगभग 10 वन कर्मियों के दल को एक क्षेत्र की घेराबंदी पर तैनात कर दिया गया। वन  अमले को उम्मीद थी कि सागौन की चरपट लेने कोई ना कोई जरूर आएगा। जैसे ही सुबह के समय पाथाखेड़ा निवासी नंदलाल उइके आया उसे घेरकर पकड़ लिया गया। पूछताछ करने पर उन्होंने अपने अन्य साथियों के नाम भी बताएं जिसमें 11 लोगों को वन विभाग द्वारा पकड़ा गया है। जिनके खिलाफ वन अधिनियम की धारा के तहत केस दर्ज किया गया।

Sanjay Vishwakarma

संजय विश्वकर्मा (Sanjay Vishwakarma) 41 वर्ष के हैं। वर्तमान में देश के जाने माने मीडिया संस्थान में सेवा दे रहे हैं। उनसे servicesinsight@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है। वह वाइल्ड लाइफ,बिजनेस और पॉलिटिकल में लम्बे दशकों का अनुभव रखते हैं। वह उमरिया, मध्यप्रदेश के रहने वाले हैं। उन्होंने Dr. C.V. Raman University जर्नलिज्म और मास कम्यूनिकेशन में BJMC की डिग्री ली है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button