देश-विदेशमध्य प्रदेशस्टेट न्यूज

पशु विभाग के अधिकारियों की शर्मनाक करतूत के बाद बगुलों ने कर दिया मौन धरना प्रदर्शन

पशु विभाग के अधिकरियों ने विभाग के नाम को किया शर्मशार छीनलिया आशियाना लेकिन कटी हुई टहनियों को नही छोड़ रहे बगुले जिसे देखने के बाद कलेक्टर ने जांच के आदेश भी दिए है.

मानवता को शर्मशार कर देने वाली बड़ी ही निर्मम तस्वीरें मध्यप्रदेश के विदिशा जिले के पशु औषधालय परिसर से सामने आई हैं, यूँ तो आप रोज देखते है की जब किसी इंशान का आशियाना तोडा जाता है तो वह धरने पर बैठा जाता है, रोता है बिलखता है, मीडिया के माध्यम से अपनी बात रखता है और उसकी बाद प्रदेश और देश के आलाकमान तक पहुचती है. लेकिन मध्यप्रदेश के विदिशा जिले के पशु औषधालय परिसर में हुई इस घटना की तस्वीरें जिसने भी देखी उसकी आखें नम हो गई,लेकिन यह घटना किसी इंशान के साथ नही बल्कि मूक पक्षिओं के साथ घटित हुई. जो न बोल सकते है और ना ही कुछ कर सकते है, लेकिन टूटी दालों में अपने बच्चों को तलाश करते रह गए. मानो पूरे बगुले मौन धरना प्रदर्शन में बैठ गए हो.

पशु विभाग के अधिकारियों की शर्मनाक करतूत के बाद बगुलों ने कर दिया मौन धरना प्रदर्शन
Source : Social Media

यह भी पढ़ें : Zoom ऐप को कड़ी टक्कर देने के लिए WhatsApp लाया है  Screen Share का फीचर जानिए कैसे करेगा काम

क्या है पूरा मामला

दरअसल मध्यप्रदेश के विदिशा जिले के पशु औषधालय परिसर में एक पेड़ पर बगुलों ने पेड़ पर अपने घोसले बना रखे थे, लेकिन बगुलों के बैठने और रहने से पशु पालन विभाग के अ​धिकारियों को दुर्गंध आती थी, इसलिए बगुलों के घौंसलों, अन्डो और बच्चों का ​ठिकाना छीन लिया गया। करीब 30 से ज्यादा बगुलों और उनके नन्हे बच्चों ने पेड़ कटने के साथ ही नीचे गिरकर दम तोड़ दिया। पेड़ कटने के बाद भी कई बगुले अपना आ​शियाना छोड़ने को तैयार नहीं थे और वे काटी हुई शाखाओं पर ही काफी देर तक मायूस से बैठे रहे।

पशु विभाग के अधिकारियों की शर्मनाक करतूत के बाद बगुलों ने कर दिया मौन धरना प्रदर्शन
Source : Social Media

यह भी पढ़ें : Mobile Battery Charging: क्या आप भी मोबाइल फ़ोन की बैटरी चार्ज करने में कर रहे हैं गलतियाँ  जानिए  फोन की बैटरी कब करें चार्ज?

विभाग के नाम को किया बदनाम

यूँ तो पशुओ के संरक्षण और संवर्धन के लिए बना प्रदेश का पशु पालन और उनके जीवन रक्षा का दायित्व निभाने वाले विभाग के परिसर में ही ये बगुले और उनके ​शिशु तड़पते रहे, दम तोड़ते रहे।लेकिन इस सबके बीच पेड़ों को काटकर बगुलों की बलि ले ली गई।

यह भी पढ़ें :  लोकायुक्त कार्यवाही : सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का मेडिकल ऑफिसर 2000 की रिश्वत लेते हुआ गिरफ्तार

कलेक्टर ने दिए जांच के आदेश

मामले की जानकरी संज्ञान में आने के बाद विदिशा जिले के संवेदनशील कलेक्टर उमाशंकर भार्गव ने मामले की जाँच के आदेश दिए है.

यह भी पढ़ें : सुपरवाइजर ने पकड़ी बिजली चोरी FIR दर्ज कराने का भय दिखा कर किया दुष्कर्म  

व्यूरो रिपोर्ट 

Sanjay Vishwakarma

संजय विश्वकर्मा (Sanjay Vishwakarma) 41 वर्ष के हैं। वर्तमान में देश के जाने माने मीडिया संस्थान में सेवा दे रहे हैं। उनसे servicesinsight@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है। वह वाइल्ड लाइफ,बिजनेस और पॉलिटिकल में लम्बे दशकों का अनुभव रखते हैं। वह उमरिया, मध्यप्रदेश के रहने वाले हैं। उन्होंने Dr. C.V. Raman University जर्नलिज्म और मास कम्यूनिकेशन में BJMC की डिग्री ली है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button