मध्य प्रदेशस्टेट न्यूज

ऑनलाइन प्यार में लग गया ऑफलाइन अड़ंगा

इंस्टाग्राम पर दोस्ती होने के बाद 15 वर्षीय किशोरी बंगाल से भागकर आए विदिशा,किशोर भी नाबालिक पिता की शिकायत पर चाइल्ड लाइन में किशोरी को अपने पास रखा,माता-पिता की वजह नानी के पास रह रही किशोरी को वापस भेजने की की जा रही तैयारी,ऑनलाइन प्यार की दिखी अनोखी कहानी

यह भी पढ़ें : लोकायुक्त ने आरक्षक को रंगेहाथों किया गिरफ्तार

आज चाइल्डलाइन विदिशा द्वारा 1098 पर सूचना मिलने के बाद गंज बासौदा रेलवे स्टेशन से एक 15 वर्षीय किशोरी को अपने कब्जे में लिया गया।

यह भी पढ़ें : मधुमक्खियों के काटने से एक कि मौत 17 घायल

बताया गया कि किशोरी पश्चिम बंगाल के दमदम की रहने वाली है और वह ऑनलाइन प्यार यानी इंस्टाग्राम पर विदिशा जिले के एक किशोर से संपर्क में आने के बाद दोस्ती हुई और प्यार में बदल गई।

यह भी पढ़ें : झाड़ियों में छिपे बाघ ने वृद्ध पर किया हमला

बात इतने आगे बढ़ी कि किशोरी अपना सब कुछ छोड़ कर किशोर से मिलने और उसके साथ भाग कर शादी करने के लिए पश्चिम बंगाल से विदिशा जिले के गंजबासौदा जा पहुंची।

यह भी पढ़ें : पेपर लीक मामले में चार आरोपियों केa खिलाफ FIR दर्ज

किशोर गंजबासौदा के नजदीक थे त्योंदा क्षेत्र का रहने वाला बताया गया है… किशोर के पिता की शिकायत के बाद चाइल्डलाइन द्वारा गंजबासौदा जीआरपी और आरपीएफ की मदद से उसे अपने साथ लाया गया।

यह भी पढ़ें : Zee ने बीच मझदार में छोड़ा साथ तो ददन बने पत्रकार पोहा वाला

बताया गया कि किशोरी के माता-पिता उसके साथ मारपीट करते थे… उसके चलते कम उम्र में ही नाना-नानी उसे पाल रहे थे… किशोरी अपने साथ कुछ गहने और कुछ राशि लेकर यहां आई थी।

यह भी पढ़ें : अभी अभी :मध्यप्रदेश के मुरैना में महसूस किए गए भूकंप के झटके

वही किशोर भी घर से ₹100000 लेकर भागने की तैयारी कर रहा था… समय पर किशोर के माता-पिता को इस बारे में जानकारी लग गई और उन्होंने बच्चों के द्वारा उठाए जा रहे से कदम को पहले ही रोक लिया।

यह भी पढ़ें : भांजी को मारकर गड़ाने के मामले में हुआ आजीवन कारावास

चाइल्ड लाइन की काउंसलर दीपा शर्मा ने बताया कि बालिका उनके पास है.. बाल समिति के सामने प्रस्तुत करने के बाद उसे पश्चिम बंगाल उसके नाना नानी के पास भेजा जाएगा… हालांकि किशोरी वापस जाने को रजामंद नहीं है… वही दीपा ने बताया कि किशोरी के संबंध में पश्चिम बंगाल पुलिस से संपर्क किया गया है जहां इस किशोरी के गुम होने की शिकायत भी दर्ज कराई गई है बंगाल पुलिस से लगातार चाइल्डलाइन विदिशा संपर्क बनाए हुए हैं।

यह भी पढ़ें : कियोस्क हुआ सील eKYC करने के लिए माँगे जा रहे थे पैसे

इस पूरे मामले को लेकर कैलाश सत्यार्थी चाइल्ड फाऊंडेशन के सदस्य एडवोकेट आयुष गोयल द्वारा उसे समझाइश दी जा रही है… वही आयुष का कहना है कि ऑनलाइन रूप से कोरोना काल में जहां बच्चों को मोबाइल पढ़ने के उद्देश्य से दिया गया था… वहां सोशल मीडिया के माध्यम से बच्चे गलत राह पर जा रहे हैं… उन्होंने कहा कि माता-पिता की यह जिम्मेदारी है कि वह बच्चों पर निगाह रखें जो ऐप और सोशल मीडिया उनकी पढ़ाई के योग्य नहीं है उन पर उन्हें ना जाने दे..

यह भी पढ़ें 

Artical by आदित्य

follow me on facebook 

Sanjay Vishwakarma

संजय विश्वकर्मा (Sanjay Vishwakarma) 41 वर्ष के हैं। वर्तमान में देश के जाने माने मीडिया संस्थान में सेवा दे रहे हैं। उनसे servicesinsight@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है। वह वाइल्ड लाइफ,बिजनेस और पॉलिटिकल में लम्बे दशकों का अनुभव रखते हैं। वह उमरिया, मध्यप्रदेश के रहने वाले हैं। उन्होंने Dr. C.V. Raman University जर्नलिज्म और मास कम्यूनिकेशन में BJMC की डिग्री ली है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button