वाइल्ड लाइफ

Tiger Reserve के Core Zone में मेटल डिटेक्टर लेकर गड़ा खज़ाना ढूढ़ने घुस गए दर्जनों लोग मचा हड़कंप

  • टाइगर रिजर्व के प्रतिबंधित कोर जोन में गड़ा धन खोजने मेटल डिटेक्टर लेकर घुसे आधा दर्जन लोग।
  • पन्ना टाइगर रिजर्व की टीम ने घेराबंदी कर पकड़ा।
  • प्रातिबन्धित क्षेत्र में घुसने बाघो की सुरक्षा पर सवाल।

पन्ना टाइगर रिजर्व की सुरक्षा में सेंधमारी हो गई रविवार की दोपहर आधा दर्जन लोग गड़ा धन खोजने के लिए मेटल डिटेक्टर के साथ टाइगर रिजर्व के कोर जोन में घुस गए। एक चार पहिया कार और एक बाइक से मडला रेंज की बलैया बीट तक पहुंचे आरोपियों पर बाघों की सुरक्षा में तैनात किसी कर्मचारी की नजर नहीं पड़ी। शाम करीब 4 बजे मैदानी अमले को वायरलेस स्टेशन सहित अन्य यंत्रों के माध्यम से सूचना मिली तो हड़कम्प मच गया। आनन-फानन में अमले ने घेराबंदी कर सभी आरोपियों को हिरासत में लिया। आरोपियों के खिलाफ अवैध रूप से टाइगर रिजर्व के प्रतिबंधित कोर जोन में घुसने संबंधित वन अपराध दर्ज कर सभी को पांच-पांच हजार रुपए के मुचलके पर सशर्त जमानत दे दी गई है।

टाइगर रिजर्व प्रबंधन इस पूरे मामले को रविवार को दबाए रखा।टाइगर रिजर्व के प्रतिबं​धित क्षेत्र में गड़ा धन खोजने के लिए सभी आरोपी सफेद रंग की इनोवा कार यूपी 93 बीपी 4445 और बाइक एमपी 35 एमएल 6474 से पहुंचे थे। कोर जोन के कई किमी अंदर बलैया बीट के मडैयन सेहा की गढ़ी तक घुस आए थे। अमले ने पुष्पेंद्र गुप्ता छतरपुर, मूरत सिंह यादव पन्ना, मुन्नालाल शर्मा छतरपुर, शैलेंद्र यादव टीकमगढ़, हरगोविंद सोनी टीकमगढ़ और गुजरात के रामभाई पिता किशोरभाई को हिरासत में लिया था। सभी पर अवैध रूप से कोर जोन में प्रवेश करने को लेकर पीओआर काटा गया है।

साथ ही इस शर्त पर पांच-पांच हजार रुपए के मुचलके पर जमानत दी गई है कि उन्हें जब भी पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा, वे आएंगे। बतादें कि जंगल के सबसे सुरक्षित कहे जाने वाले टाइगर रिजर्व के कोर जोन में जिस प्रकार से गड़े खजाने की लालच में आरोपी कई किमी अंदर तक घुस गए थे उससे बाघों और दूसरे अन्य वन्य प्राणियों की सुरक्षा पर सवाल उठ गया है। लचर सुरक्षा व्यवस्था का फायदा उठाकर कोई ​शिकारी या अन्य गिरोह भी टाइगर रिजर्व में घुस कर वन्य प्रा​णियों को नुकसान पहुंचा सकता है। वही इस पूरे मामले में पन्ना टाइगर रिजर्व के फील्ड डायरेक्टर बृजेंद्र झा ने कहा कि टीम की तत्परता से घेराबंदी कर पकड़ा गया है।

Sanjay Vishwakarma

संजय विश्वकर्मा (Sanjay Vishwakarma) 41 वर्ष के हैं। वर्तमान में देश के जाने माने मीडिया संस्थान में सेवा दे रहे हैं। उनसे servicesinsight@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है। वह वाइल्ड लाइफ,बिजनेस और पॉलिटिकल में लम्बे दशकों का अनुभव रखते हैं। वह उमरिया, मध्यप्रदेश के रहने वाले हैं। उन्होंने Dr. C.V. Raman University जर्नलिज्म और मास कम्यूनिकेशन में BJMC की डिग्री ली है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker