मध्य प्रदेशवाइल्ड लाइफस्टेट न्यूज

Bandhavgarh Tiger Reserve : बांधवगढ़ के उस काले अध्याय को नही दोहराना चाहता पार्क प्रबंधन उठाया यह बड़ा कदम

Bandhavgarh Tiger Reserve: वैसे तो बांधवगढ़ टाइगर रिज़र्व अपनी अधिक बाघों की संख्या के लिए पूरे विश्व भर के वन्यजीव प्रेमियों के मानसपटल पर अपनी एक अलग छवि रखता हैं लेकिन वर्ष में बांधवगढ़ में लगी आग ने पूरे विश्व भर के वन्यजीव प्रेमियों के माथे में चिंता की लकीर खीच दी थी. कई मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा था की जंगल की अकूत संपदा के साथ साथ कई वन्यजीव भी आग की लपटों का शिकार हो गए थे. लेकिन पुराने हादसों से सीख लेकर इस वर्ष बांधवगढ़ टाइगर रिज़र्व प्रबंधन समय रहते मुस्तैद हो चुका हैं ताकि ऐसा कोई हादसा न हो जिससे वन्यजीवों सहित वन संपदा को कोई नुकसान पहुंचे.

यह भी पढ़ें : भ्रष्टाचारी सहकारी शाखा प्रबंधक के घर सुबह 4 बजे लोकायुक्त टीम की दबिस

2 वर्ष पूर्व जब जल उठा था बांधवगढ़ 

यह भी पढ़ें : पार्टनरशिप विवाद : ट्रक ट्रैक्टर और जेसीबी में पेट्रोल डालकर लगा दी आग

क्या हैं बांधवगढ़ का काला अध्याय

बीते २ वर्ष पूर्व बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के खितौली, मगधी और ताला जोन जंगल में महुआ बीनने जाने वालों की लापरवाही से आज की जद में आ गए थे जिससे अकूत वन संपदा के साथ साथ कई वन्यजीव भी आग की चपेट में आ गए थे.

यह भी पढ़ें : लोकायुक्त कार्यवाही : BEO और बाबू ट्रैप हुए रंगेहाथ

अग्नि नियंत्रण हेतु मॉकड्रिल

दो दिवसीय कार्यशाला का हुआ आयोजन

गर्मी के मौसम में जंगल में आग लगना आम बात है। लेकिन जब जंगल सुलगता है, तो आग का रास्ता रोकना मुश्किल हो जाता है। लेकिन समय रहते उठाए गए कदम से आग में काबू पाया जा सकता है.इसी उद्देश्य को लेकर बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व उमरिया के  मगधी एवं पतौर में दिनांक 27/02/2023 एवं 28/02/2023 तक दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया था जिसमे अग्नि सुरक्षा विद्युत लाइन गस्ती को लेकर विस्तृत परिचर्चा की गई. कार्यशाला में इस विषय पर भी विस्तृत चर्चा हुई की आधुनिक उपकरणों यथा लीफ ब्लोवर, पारंपरिक उपकरणों, पानी टैंकर का उपयोग कर कैसे आग को प्रभावी ढंग से अग्नि नियंत्रण किए जाए.

यह भी पढ़ें : थाना परिसर में हो गई बड़ी चोरी की वारदात खर्राटे भरती रह गई पुलिस

अग्नि नियंत्रण हेतु की गई मॉकड्रिल

परिक्षेत्र अधिकारियों के द्वारा उनके परिक्षेत्रों  में अग्नि नियंत्रण हेतु किए जा रहे कार्यों जैसे अग्निरोधक पट्टी को कटाई एवं जलाई अग्निशामक दलों का गठन आदि के संबंध में अवगत कराया गया। उपस्थित कर्मचारियों द्वारा पूर्व वर्षों में लगी आग एवं उनके नियंत्रण में हुई कठिनाइयों में प्रकाश डाला गया, क्षेत्र संचालक एवं उप संचालक द्वारा सभी को विकास समितियों की बैठक आगामी एक सप्ताह के अंदर कर अग्नि सुरक्षा के प्रति ग्रामीणों को जागरूक करने एवं प्रचार प्रसार करने के विषय में निर्देशित किया। इसके पश्चात अग्नि नियंत्रण हेतु मॉकड्रिल की गई जिसमे लीक ब्लोवर पारंपरिक अग्नि नियंत्रण उपकरण एवं पानी टैंकर का उपयोग किया गया।

यह भी पढ़ें : लाड़ली बहना योजना : मुख्यमंत्री ने दी पूरी जानकरी जानिए कब से भरे जायेंगे फॉर्म कैसी होगी फॉर्म भरने की प्रर्किया

Artical by Aditya
follow me on facebook 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button