देश-विदेश

मोदी सरकार ₹60 किलो की रियायती दर पर देशभर में बेचेगी भारत दाल

Bharat Dal: मोदी सरकार ने भारत दाल से चना दाल बाजार में उतार दी है. 'भारत दाल' के नाम से दालें 60 रुपये प्रति किलो की रियायती दर पर मिलेंगी. वहीं, दाल का 30 किलो का पैकेट 55 रुपये प्रति किलो की कीमत पर मिलेगा.

Bharat Dal: जैसे जैसे चुनाव नजदीक आ रहा है देशभर में बढती महगाई को लेकर केंद्र सरकार ने एक बड़ा कदम उठाया है, सरकार ने बाजार से भारत दाल के नाम से से चना दाल बाजार में उतारी दी है. ‘भारत दाल’ के नाम से दालें 60 रुपये प्रति किलो की रियायती दर पर मिलेंगी. वहीं, दाल का 30 किलो का पैकेट 55 रुपये प्रति किलो की कीमत पर मिलेगा. ‘भारत दाल’ NAFED, SAFFAL, केंद्रीय भंडार पर में उपलब्ध होगी।

 यह भी पढ़ें :  See Vedio : बर्खास्त आरक्षक के मकान में चल रहा था सेक्स रैकेट पुलिस को देखते ही लगे गिरगिड़ाने

देशभर में 703 नाफेड स्टोर्स पर होगी रियायती दाल की बिक्री

केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री पीयूष गोयल ने सोमवार को ‘भारत दाल’ (Bharat Dal) ब्रांड नाम के तहत सब्सिडी वाली चना दाल की बिक्री की घोषणा की. देशभर में 703 नाफेड स्टोर्स पर रियायती दाल की बिक्री होगी. ज़ी बिजनस ने सबसे पहले कहा था कि सरकार चना दाल बेचेगी, NAFED के भंडार में चने से दाल बनाकर बाजार में लाने की शुरुआत.

पीयूष गोयल ने की घोषणा

केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री पीयूष गोयल ने सोमवार को ‘भारत दाल’ ब्रांड नाम के तहत सब्सिडी वाली चना दाल की बिक्री की घोषणा की। सब्सिडी वाली दालें देशभर में 703 NAFED स्टोर्स पर बेची जाएंगी। आर्थिक विश्लेशको ने पहले कहा था कि सरकार चने की दाल बेचेगी, नेफेड के स्टोर्स में चने से दाल बनाने और बाजार में लाने की शुरुआत हो सकती है.

यह भी पढ़ें :  अपने Smartphone की Battery नही करें 100% चार्ज जान लें कारण नही तो….

महगाई में एक बड़ा कदम

दिल्ली-एनसीआर में नेफेड के खुदरा आउटलेट चना दाल बेचते हैं। केंद्र सरकार द्वारा ‘भारत दाल’ की शुरूआत सरकार के चने के स्टॉक को चना दाल में परिवर्तित करके उपभोक्ताओं को सस्ती कीमतों पर दालें उपलब्ध कराने की दिशा में एक बड़ा कदम है।

दिल्ली माडल देशभर में लागू

चना दाल की मिलिंग और पैकेजिंग NAFED द्वारा दिल्ली-एनसीआर में अपने खुदरा दुकानों और एनसीसीएफ, केंद्रीय भांडा और सफल के आउटलेट के माध्यम से वितरण के लिए की जाती है। इस व्यवस्था के तहत, चने की दाल राज्य सरकारों को उनकी कल्याणकारी योजनाओं, पुलिस, जेलों और उनकी उपभोक्ता सहकारी दुकानों के माध्यम से वितरण के लिए उपलब्ध कराई जाती है।

चना एक रूप अनेक

चना भारत में सबसे अधिक उत्पादित होने वाली दाल है और पूरे भारत में कई रूपों में इसका सेवन किया जाता है। सलाद बनाने के लिए साबुत चने को भिगोकर उबाला जाता है और भुने चने को नाश्ते के रूप में परोसा जाता है। तली हुई चने की दाल का उपयोग अरहर दाल, करी और सूप के विकल्प के रूप में भी किया जा सकता है। चने का आटा नाश्ते और मिठाइयों के लिए मुख्य कच्चा माल है।

चने के है कई लाभ

चने के कई पोषण संबंधी स्वास्थ्य लाभ हैं क्योंकि वे फाइबर, आयरन, पोटेशियम, विटामिन बी, सेलेनियम, बीटा कैरोटीन और कोलीन से भरपूर होते हैं जो मानव शरीर को एनीमिया, रक्त शर्करा, हड्डियों के स्वास्थ्य आदि को नियंत्रित करने में मदद करते हैं और मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी आवश्यक हैं।

यह भी पढ़ें : Madhya Pradesh Election 2023: ‘एमपी में का बा’ गाने में मामा की एंट्री वही शिवराज के पक्ष में अनामिका जैन ने गाया गाना देखिए Song War का आगे का अपडेट

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button