देश-विदेश

100 साल पुराने पुस्तकालय के प्रभारी ने आचार्य रजनीश को लेकर किए चौकाने वाले खुलासे

विश्व प्रसिद्ध दार्शनिक ओशो रजनीश की जन्म स्थली कहे जाने वाले नरसिंहपुर के गाडरवारा में स्वतंत्रता के पहले बने इस पुस्तकालय में आज भी मौजूद हैं ऐसी दर्जनों पुस्तक जिसमें ओशो के हस्ताक्षर किए हुए मिलते हैं जी हां गाडरवारा में स्थित यह पुस्तकालय का निर्माण सन 1914 में हुआ था जो अब विश्व प्रसिद्ध हो चुका है।

यह भी पढ़ें : PM Kisan Yojana : जुलाई की इस तारीख को 8.5 करोड़ किसानों के खाते में आएँगे 2000 रुपये चेक करिए अपना नाम

पढ़ी गई किताब में कर देते थे हस्ताक्षर

इसको जानने वाले लोग बताते हैं कि विश्व का यही एक मात्र ऐसा पुस्तकालय है यहां पर दर्जनों की संख्या में ऐसी पुस्तक मौजूद हैं जिसको ओशो ने पढ़ा और ज्ञान अर्जित किया इतना ही नहीं ओशो रजनीश की खास आदत यह भी थी कि वह जिस पुस्तक को पढ़ते थे उसमें वह हस्ताक्षर कर देते थे और उनके हस्ताक्षर किए हुए दर्जनों की संख्या में इस पुस्तकालय में पुस्तक मौजूद है।

यह भी पढ़ें : BSNL 4G सर्विस हो गई लॉन्च कम कीमत में मिलेगी सुपर फास्ट स्पीड Jio-Airtel की बढ़ गई टेंशन

किताबो का दर्शन करने आते है ओशो प्रेमी

इन पुस्तकों को पढ़ने के लिए कई ओशो प्रेमी यहां आते हैं और अपने आप को भाग्यशाली समझते हैं इतना ही नहीं विदेशों से भी ओशो के अनुआई इस पुस्तकालय में आ चुके हैं और ओशो के हस्ताक्षर किए हुए पुस्तकों को चूमते हुए अपने आपको गौरवान्वित महसूस करते हैं।

यह भी पढ़ें : भाजपा जिला संयोजक सहकारिता प्रकोष्ठ ने दिया पार्टी से स्तीफा लगाए ये बड़े आरोपयह भी

रजिस्टर में दस्तखत है मौजूद

इतना ही नहीं इस पुस्तकालय में वह रजिस्टर भी मौजूद है जिसमें ओशो के दस्तखत मिलते हैं और यह रिकॉर्ड भी मिलता है कि इस पुस्तकालय में ओशो आयदिन आते थे और इन पुस्तकों से वह अध्ययन करते थे ओशो रजनीश की जन्मस्थली के नाम से मशहूर गाडरवारा शहर के बीचो-बीच स्थित यह पुस्तकालय भी ओशो की यादों से जुड़ा होने के कारण बेहद मशहूर है।

यह भी पढ़ें : धीरेन्द्र शास्त्री की मुरीद हुई पाकिस्तान से आई सीमा हैदर दरबार में जाकर देगी इस बड़े काम को अंजाम

एक दिन में पढ़ते थे 3 किताब

वही चर्चा के दौरान अनिल गुप्ता उपाध्यक्ष सार्वजनिक पुस्तकालय गाडरवारा ने चौकाने वाले खुलासे किए उन्होंने बताया कि रजनीश ओशो इतने मेधावी थे कि एक साथ वो तीन-तीन पुस्तके ले जाते थे और दूसरे दिन वापस कर पुनः तीन पुस्तके ले जाते थे आमतौर पर लोग एक पुस्तक पढ़ने में महीनों लगा देते थे लेकिन रजनीश ओशो बचपन से ही तेजस्वी थे। यही नही पुस्तकालय में आज भी वह रजिस्टर मौजूद है जिन्हें वो इशू करवाकर पढा करते थे और आज भी रजिस्ट्रेशन में उनके हस्ताक्षर मौजूद है।

यह भी पढ़ें : MP कांग्रेस इन 66 सीटों पर जल्द करेगी उम्मीदवारों के नामों का ऐलान

 यह भी पढ़ें :  See Vedio : बर्खास्त आरक्षक के मकान में चल रहा था सेक्स रैकेट पुलिस को देखते ही लगे गिरगिड़ाने

 

ऐसी और जानकारी सबसे पहले पाने के लिए हमसे जुड़े

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Sanjay Vishwakarma

संजय विश्वकर्मा (Sanjay Vishwakarma) 41 वर्ष के हैं। वर्तमान में देश के जाने माने मीडिया संस्थान में सेवा दे रहे हैं। उनसे servicesinsight@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है। वह वाइल्ड लाइफ,बिजनेस और पॉलिटिकल में लम्बे दशकों का अनुभव रखते हैं। वह उमरिया, मध्यप्रदेश के रहने वाले हैं। उन्होंने Dr. C.V. Raman University जर्नलिज्म और मास कम्यूनिकेशन में BJMC की डिग्री ली है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button