राजनीति

MP कांग्रेस इन 66 सीटों पर जल्द करेगी उम्मीदवारों के नामों का ऐलान

मध्य प्रदेश कांग्रेस जल्द ही अपने विधानसभा उम्मीदवारों की घोषणा करने जा रही है। जिसकी तैयारियां लगभग पूरी हो चुकी हैं. सूत्र बता रहे हैं अंतिम सूची पर अंतिम मुहर लगभग लग चुकी है. ये वो सीटें हैं जहां पर दिग्विजय सिंह ने दौरा किया था. इन बैठकों की रिपोर्ट कमलनाथ ने दिग्विजय सिंह को सौंपी. इस रिपोर्ट में बताया गया है कि कांग्रेस इस सीट पर कैसे जीत हासिल कर सकती है और कौन उम्मीदवार हो सकता है.

यह भी पढ़ें :  मध्यप्रदेश में फिर से होगी 8454 पदों पर शिक्षकों की भर्ती

एक तीरे से साधा जा रहा दो निशाना

कांग्रेस जल्द ही टिकटों की घोषणा कर एक तीर से दो शिकार करना चाहती है. पहली हारी हुई सीट पर उम्मीदवार घोषित करने से उम्मीदवार को बात फैलाने और जनता तक पहुंचने के लिए काफी समय मिल जाएगा. इसके साथ ही कांग्रेस की योजना है कि पहले टिकट की घोषणा कर बीजेपी पर मनोवैज्ञानिक दबाव बनाया जा सके, जिसका फायदा चुनाव में उठाया जा सके. कांग्रेस अगस्त के पहले पखवाड़े में टिकट की घोषणा कर सकती है.

यह भी पढ़ें :  अवैध तरीके से बोर्डर लांघ कर भारत आ गई एक और सीमाप्रेमी ने दे दिया प्यार में धोखा पहुच गई सलाखों के पीछे

एमपी कांग्रेस का है सीक्रेट ये प्लान

दिग्विजय सिंह ने मध्य प्रदेश की 66 सीटों का दौरा किया. ये वो सीटें हैं जहां कांग्रेस पिछले दो दशकों से चुनाव हार रही है. कांग्रेस की ओर से चुनाव की तारीखों के ऐलान से पहले कमजोर सीटों पर दौरा करने और फिर जाति के आधार पर लोकप्रिय पकड़ रखने वाले नेता को टिकट देने की योजना बनाई गई थी. इसी रणनीति के तहत कांग्रेस ने ये फैसला लिया है.

यह भी पढ़ें : Madhya Pradesh Election 2023: एमपी में का बागाने में मामा की एंट्री वही शिवराज के पक्ष में अनामिका जैन ने गाया गाना देखिए Song War का आगे का अपडेट

दिग्ग्विजय की रणनीति का क्या होगा मुकाम

कमलनाथ ने दिग्विजय सिंह को उन सीटों पर जाने का निर्देश दिया जहां कांग्रेस लंबे समय से हार रही थी. ये हैं प्रदेश भर की 66 सीटें, जहां पर दिग्विजय सिंह ने दौरा किया था. इस बीच, दिग्विजय सिंह ने मंडल और सेक्टर बैठकें कीं और कार्यकर्ताओं को संगठन को मजबूत करने के लिए प्रोत्साहित किया। इसके साथ ही दिग्विजय सिंह ने दौरे के दौरान प्रत्याशी को लेकर कार्यकर्ताओं का मन भी टटोला. वहीं कई जगहों पर कार्यकर्ताओं और टिकट के दावेदारों को पार्टी प्रत्याशी के खिलाफ काम नहीं करने की शपथ भी दिलाई गई.

यह भी पढ़ें : मोदी सरकार 60 किलो की रियायती दर पर देशभर में बेचेगी भारत दाल

इन सीटों 66 पर कांग्रेस को मिल रही लगातार हार

जिन सीटों पर कांग्रेस लंबे समय से हार रही है. इनमें जबलपुर केंट, पनागर, सिहोरा, परसवाड़ा, बालाघाट, सिवनी, आमला, टिमरनी, सिवनी मालवा, होशंगाबाद, सोहागपुर, पिपरिया, भोजपुर, कुरवाई, शमशाबाद, बैरसिया, गोविंदपुरा, बुधनी, आष्टा, सीहोर, सारंगपुर, सुसनेर, शुजालपुर, देवास, खातेगांव, बागली, खंडवा, पंधाना, बुरहानपुर, धार, उज्जैन उत्तर, उज्जैन दक्षिण, रतलाम सिटी, मंदसौर, मल्हारगढ़,रहली, दतिया, बालाघाट, रीवा, सीधी, नरयावली, भोजपुर, सागर, हरसूद, सोहागपुर, धार, इंदौर दो, इंदौर चार, इंदौर पांच और मंदसौर सीट प्रमुख हैं, इसके साथ ही महू, गुना, शिवपुरी, देवसर, धौहनी, जयसिंहनगर, जैतपुर, बांधवगढ़, मानपुर, मुड़वारा, नीमच और जावद सीट शामिल हैं.

यह भी पढ़ें : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अचानक घिर गए सपेरों से जानिए क्यों ?

Sanjay Vishwakarma

संजय विश्वकर्मा (Sanjay Vishwakarma) 41 वर्ष के हैं। वर्तमान में देश के जाने माने मीडिया संस्थान में सेवा दे रहे हैं। उनसे servicesinsight@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है। वह वाइल्ड लाइफ,बिजनेस और पॉलिटिकल में लम्बे दशकों का अनुभव रखते हैं। वह उमरिया, मध्यप्रदेश के रहने वाले हैं। उन्होंने Dr. C.V. Raman University जर्नलिज्म और मास कम्यूनिकेशन में BJMC की डिग्री ली है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button