राजनीति

भाजपा जिलाध्यक्ष को हटाए जाएं कार्यकर्ताओं ने सोशल मीडिया में शुरू की मुहिम अब तक 40 से ज्यादा ने दिया इस्तीफा

मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव सिर पर हैं वही भाजपा में भगदड़ सी मची हुई दिखाई दे रही है. रतलाम जिले में कार्यकर्ताओं के बगावती तेवर सामने आए है. पार्टी में विरोध इस हद तक बढ़ गया है कि यहां खुलेआम इस्तीफे की पेशकश की जा रही है. इसकी शुरुआत आलोट से हुई थी, जो अब ग्रामीण इलाकों में भी फैल चुकी है। चुनावी साल में पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं की यह बगावत भाजपा को करारा झटका दे सकती है। रतलाम जिले में आवंटन के बाद रतलाम गांव में भी पदाधिकारियों ने बड़े पैमाने पर इस्तीफा दे दिया है. विभिन्न प्रकोष्ठों के 40 से अधिक पदाधिकारियों ने अपने पद छोड़ दिए हैं। इस्तीफा देने वाले सभी अधिकारी जिलाध्यक्ष राजेंद्र लूनारा से खफा हैं। इस तख्तापलट के बाद पार्टी में हलचल मच गई है। नेता डैमेज कंट्रोल में लगे हैं।

यह भी पढ़ें : घर के बाहर खाट में सो रहे शख्स की गला रेत कर हत्या

मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव कुछ ही महीनों में होने वाले हैं। कांग्रेस और बीजेपी दोनों पार्टियों ने पूरे जोर शोर से तैयारियां शुरू कर दी हैं. लेकिन इस बार बीजेपी में असंतोष और गुटबाजी ज्यादा है. कुछ जिले ऐसे हैं जहां पार्टी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं की बगावत शुरू हो गई है। ऐसा ही कुछ रतलाम जिला बीजेपी में देखने को मिल रहा है. जिला भाजपा में इन दिनों महाभारत चल रही है। थोक मजदूर अपने पदों से इस्तीफा दे रहे हैं। आखिर में यह जानना जरूरी है कि आखिर इस महाभारत का मास्टरमाइंड कौन है और पार्टी के पदाधिकारी बगावत क्यों कर रहे हैं इस्तीफे की सुगबुगाहट क्यों शुरू हो गई है.

भाजपा जिलाध्यक्ष को हटाए जाएं कार्यकर्ताओं ने सोशल मीडिया में शुरू की मुहिम अब तक 40 से ज्यादा ने दिया इस्तीफा
Article By Aditya

यह भी पढ़ें : भीषण हादसा खड़े डंपर में वीडियो कोच बस ने मारी टक्कर 3 की मौत

जानिए क्या है नाराजगी का कारण

रतलाम जिला भाजपा से इन दिनों शांति  गायब है। जिलाध्यक्ष राजेंद्रसिंह लूनारा की कार्यशैली  से खफा पार्टी पदाधिकारी लगातार इस्तीफा दे रहे हैं। इससे पहले आलोट के दो दर्जन से अधिक पदाधिकारियों ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. अब रतलाम गांव के धराड़ मंडल के 40 से ज्यादा पार्टी पदाधिकारियों ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. आलोट में पुलिस प्रताड़ना के खिलाफ भाजपा नेता थाने पर धरने पर बैठ गए। भाजपा के जिलाध्यक्ष ने उन्हें नोटिस दिया। जिसके बाद अलॉट में भाजपा कार्यकर्ता भड़क गए और पद छोड़ दिया। धराड़ मंडल के अध्यक्ष को बिना कारण बताए पद से हटा दिया गया, जिसके विरोध में धारा मंडल के 40 से अधिक पदाधिकारियों ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया.

यह भी पढ़ें : थैले में नवजात का शव रखे डिंडोरी में मिला युवक जानिए क्या है पूरा मामला

कांग्रेस में होंगे शामिल

कांग्रेस भी इस मामले में पीछे नहीं है। कांग्रेस प्रवक्ता सुजीत उपाध्याय का दावा ​​है कि चुनाव तक बीजेपी के ज्यादातर कार्यकर्ता इस्तीफा देकर कांग्रेस में शामिल हो जाएंगे. अलॉट और रतलाम ग्रामीण विधानसभा क्षेत्रों में बीजेपी की स्थिति बहुत अच्छी नहीं है. ऐसे में कार्यकर्ताओं में असंतोष और पदाधिकारियों का इस्तीफा विधानसभा चुनाव में पार्टी के लिए मुसीबत खड़ी कर सकता है. अब देखना यह होगा कि बीजेपी इस चुनौती से कैसे पार पाती है.

यह भी पढ़ें : खड़े ट्रक में पीछे से टकराई यात्री बस दर्जनों यात्री घायल

सब ऑल इज वेल है

इस मामले में भाजपा के जिला महामंत्री प्रदीप उपाध्याय का कहना है कि कार्यकाल पूरा होने के बाद धराड़ मंडल के अध्यक्ष को पद से हटाकर जिला कार्यकारिणी में ले जाया गया है. पार्टी में सब कुछ ठीक है और सभी कार्यकर्ता बीजेपी के लिए ही काम करेंगे.

 यह भी पढ़ें : 15 से 30 जून तक एमपी में चलेगी तबादला एक्सप्रेस धडाधड होंगे ट्रांसफर तबादला नीति जारी

Article By Aditya

ऐसी और जानकारी सबसे पहले पाने के लिए हमसे जुड़े

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button