मध्य प्रदेशस्टेट न्यूज

मौत का पुल : नजर चुकी और हो जाएगा हादसा

17 साल बाद भी नहीं बन पाई टूटी हुई पुलिया जान जोखिम में डालकर निकलते हैं ग्रामीण।

आज जहां शहरों को स्मार्ट सिटी बनाने की बात की जा रही है, तो वहीं रायसेन के ग्रामीण अंचल में अधिकांश लोगों को सामान्य सी सुविधाएं भी नहीं मिल पा रही हैं। यहां तक कि कई ऐसे स्थान हैं, जहां लोगों को अपनी जान जोखिम में डाल कर रास्ता पार करना पड़ता है। इस दौरान जरा सी नजर चूक जाए तो यह जोखिम भरे रास्ते किसी की भी जान ले सकते हैं। इस तरह के हालात सांची ब्लॉक के ग्राम पंचायत अम्बाड़ी में बने हुए हैं, जहां 2006 से टूटी हुई पुलिया आज 17 साल बाद भी जर्जर हालत में खड़ी हुई है। यहां कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है। जबकि इस पुलिया से लगभग 20 गांव के लोग शहर के लिए प्रतिदिन आवागमन करते हैं। टूटी पुलिया पर बिजली के खंभे रखे गए और यहां से बुजुर्ग, युवा, महिलाएं और स्कूली बच्चे जोखिम भरा सफर तय करते हैं।

यह भी पढ़ें : Road Accident : खरगोन के उमरिया में टैक्टर और कार की हुई आमने सामने की भिडंत

स्कूल तक पहुंचने वाले रास्ते इतने बेकार पड़े हुए हैं कि कहीं तो पुल टूटा पड़ा है तो कहीं कीचड़ से होकर गुजरना पड़ता है। बच्चे हाथ में चप्पल लेकर निकलते हैं। मगर प्रशासन मूकदर्शक बना बैठा हैं ग्राम अंबाडी में आने के लिए दो रास्ते हैं। इनमें से एक पर पुल टूटा पड़ा है, तो दूसरे पर बारिश में  कीचड़ से भरा रहता है। ग्रामीणों के कई बार शिकायत के बाद भी आज तक पुलिया का निर्माण नहीं हो सका है।

यह भी पढ़ें : Double Murder : पत्नी को पकड़ लिया प्रेमी के साथ रंगेहाथ दोनों को कुल्हाड़ी से काट कर पहुँच गया थाना

पुलिया टूटने के कारण ग्रामीणों को भोपाल विदिशा हाईवे तक पहुंचने के लिए  तीन किलोमीटर घूमकर दीवानगंज से होकर जाना पड़ रहा है। अब इस पुलिया के पास ही नवीन चौकी का निर्माण हो गया है अब अगर ग्रामीणों  को पुलिस में रिपोर्ट या शिकायत करना होगा तो 3 किलोमीटर घूम  कर चौकी जाना पड़ेगा बारिश के समय यहां से निकलना और भी ज्यादा खतरनाक हो जाता है जबकि ग्रामीण इस रास्ते से होकर विदिशा और भोपाल के लिए जाते हैं। वहीं जिम्मेदारों का कहना है कि इस रास्ते पर विवाद चल रहा है। विवाद सुलझने के बाद ही पुलिया बन पाएगी। अब सवाल उठता है कि 17 साल से इस पुलिया का बनने का इंतजार कर रहा है। ग्रामीण अब कब तक इंतजार कर जान को जोखिम में डालेंगे।

यह भी पढ़ें : उफनती नदी में मौत की छलांग लगाते हुए युवक का वीडियो हुआ वायरल

ग्रामीणों से मिली जानकारी के अनुसार राजस्व निरीक्षक, पटवारी ने इस रास्ते की नपती करके किसी निजी भूमि में निकाल दिया है। कुछ दिन तक जिसको राजस्व निरीक्षक ने कब्जा दिया था, उक्त व्यक्ति ने कांटे डालकर रास्ता भी बंद कर दिया था। मगर ग्रामीणों के कहने से उक्त व्यक्ति ने रास्ता खोल दिया है। अब सवाल इस बात का उठता है कि बरसों पुराने रास्ता जो सरकारी था अब निजी कैसे हो गया है।

यह भी पढ़ें : फर्जी डिग्री बनाकर सरकारी अस्पताल में झोलाछाप बन गया डॉक्टर शिव सेना ने उठाई आवाज

परसराम मीणा स्थानीय ग्रामीण अंबाड़ी ने बताया कि टूटी पुलिया के दोनों तरफ बिजली के खंभे रखे हैं। इनके सहारे रोज खतरा उठाकर निकलना पड़ता है, जिससे लगभग बीस गांव के ग्रामीण परेशान और कई बार दुर्घटनाएं हो चुकी हैं। बारिश के समय मे पूरा रास्ता बंद हो जाता है। कई बार शिकायत की गई, लेकिन निराकरण नहीं हो पाया।

यह भी पढ़ें :

हुकम सिंह कुशवाह स्थानीय ग्रामवासी ने बताया कि इस मार्ग से बीस गांव के ग्रामीण जुड़े हैं। जिन्हें प्रतिदिन टूटी पुलिया से बिजली के पोल के ऊपर से निकलना पड़ रहा है, जिससे कभी भी गंभीर हादसा हो सकता है। मगर प्रशासनिक एवं जनप्रतिनिधि इस पुलिया का निर्माण नहीं करा रहे।

यह भी पढ़ें :  कोचिंग से लौटते छात्र की अज्ञात आरोपियों ने की पिटाई Vedio वायरल

 17 सालों से यह पुलिया जर्जर अवस्था में है। हमें प्रतिदिन अपनी जान जोखिम में डालकर इन बिजली के खंभों के सहारे यहां से निकलना पड़ता है। कई बार शिकायत की गई, लेकिन हमारी समस्या का अभी तक समाधान नहीं किया गया

यह भी पढ़ें :  MP में पुलिसकर्मियों को जानिए कब कैसे और किसे मिलेगा साप्ताहिक अवकाश गाइडलाइन हुई जारी

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button